स्‍वामी दयानंद सरस्‍वती का आह्वान था कि हमें वेदों की ओर पुन: वापस लौटना चाहिए तथा वेदों की अपौरूषेयता को स्‍वीकार करना चाहिए ।