1882 में गठित इस कमेटी का उद्देश्‍य शिक्षा के क्षेत्र में 1854 के बाद हुई प्रगति का मूल्‍यांकन करना था ।