इतिहास क्विज 2018 मई – 11

प्राचीन परम्‍पराओं के अनुसार आयोजित संगम ( तमिल विद्वानों की सभायें ) की संख्‍या है :

संगम से तात्‍पर्य है :

‘धर्म” तथा ”ऋत” भारत की प्राचीन वैदिक सभ्‍यता के एक केंद्रीय विचार को चित्रित करते हैं। इस संदर्भ में निम्‍नलिखित कथनों पर विचार कीजिए- 1. धर्म व्‍यक्ति के दायित्‍वों एवं स्‍वयं तथा दूसरों के प्रति व्‍यक्तिगत कर्तव्‍यों की सं‍कल्‍पना था। 2. ऋत मूलभूत नैतिक विधान था जो सृष्टि और उसमें अंतर्निहित सारे तत्‍वों के क्रियाकलापों को संचालित करता था।

भारत में दार्शनिक विचार के सम्बंध संप्रदाय से संबंधित निम्नलिखित कथनों पर विचार किजिए‌_ १- सांख्य पुनर्जनम या आत्मा के आवागम के सिद्धांत को स्वकर नहीं करता है २- सांख्य की मन्यता है कि आत्म-ज्ञान ही मोक्ष की ओर ले जाता है न कि कोई बाह्य प्रभाव अथवा कारक।

गायत्री मंत्र के नाम से प्रसिद्ध मंत्र सर्वप्रथम किस ग्रंथ में मिलता है ?

हड़प्पा सभ्यता का पक्की मिट्‍टी का हल कहाँ पाया गया ?

सिंधु सभ्‍यता के निम्‍नलिखित शहरों में से कौन-सा एक जल प्रबंधन के लिए जाना जाता था?

सिंधु घाटी सभ्‍यता के संदर्भ में निम्‍नलिखित कथनों पर विचार कीजिए- 1. उस काल में वस्‍त्र बनाने में कपास का प्रयोग होता था। 2. यह सभ्‍यता मुख्‍यत: लौकिक सभ्‍यता थी तथा उसमें धार्मिक तत्‍व यधपि उपस्थित था वर्चस्‍वशाली नहीं था। उपर्युक्‍त में से कौन-सा/कौन-से कथन सही है/हैं?

पूर्व-वैदिक आर्यो का धर्म प्रमुखत: था-

निम्‍नलिखित में से कौन – सा / से लक्षण सिंध सभ्‍यता के लोगों का सही चित्रण करता है/ करते है ? १- उनके विशाल महल और मंदिर होते थे। १- उनके विशाल महल और मंदिर होते थे । २- वे देवियों और देवताओं , दोनों की पूजा करते थे । ३- वे युद्ध में धोडों द्वारा खींचे गए रथों का प्रयोग करते थे ।